आज के दौर की कविताएं- आदमियत-विरेन्‍द्र पटेल

आज के दौर की कविताएं-आदमियत न जाने कितने समय में, निकल पाएगी, इस गुफागुह में से…